Maa Par Dil Chune Wali Shayari

कमा के इतनी दोलत भी मैं अपनी ‪‎माँ‬ को दे ना पाया,
कि जितने सिक्कों से #माँ मेरी नज़र उतारा करती थी..!!

“-”

जिस बेटे के पहली बार बोलने पर खुशी से चिल्ला उठी थी जो ‪#‎माँ‬,
आज उसी बेटे की एक आवाज पर खामोश हो जाती है….#माँ

“-”

माँ एक ऐसा शब्द हैं, जिसे सिर्फ़ बोलने से ही अपने हृदय में प्यार और ख़ुशी की लहर आ जाती हैं…और ऐसे पावन दिवस पर हर माँ को मेरा प्रणाम..

Author: ShineMagic

Leave a Reply