2 Line Shero Sayri

पहना रहे हो क्यूँ मुझे तुम काँच का लिबास…
बच गया है क्या फिर कोई पत्थर तुम्हारे पास..!!

“_”
कागज़ के नोटों से आखिर किस किस को खरीदोगे…
किस्मत परखने के लिए यहाँ आज भी,
सिक्का हीं उछाला जाता है

“_”
ज़रूरत’ दिन निकलते ही निकल पड़ती है ‘डयूटी’ पर,
‘बदन’ हर शाम कहता है कि अब ‘हड़ताल’ हो जाए ।।

“_”
मेरी बात सुन पगली
अकेले हम ही शामिल नही है इस जुर्म में….
जब नजरे मिली थी तो मुस्कराई तू भी थी…!!!!!

“_”
न जाने कैसी नज़र लगी है ज़माने की,
अब वजह नही मिलती मुस्कुराने की…

Author: ShineMagic

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*