2 Line Shero Sayri

पहना रहे हो क्यूँ मुझे तुम काँच का लिबास…
बच गया है क्या फिर कोई पत्थर तुम्हारे पास..!!

“_”
कागज़ के नोटों से आखिर किस किस को खरीदोगे…
किस्मत परखने के लिए यहाँ आज भी,
सिक्का हीं उछाला जाता है

“_”
ज़रूरत’ दिन निकलते ही निकल पड़ती है ‘डयूटी’ पर,
‘बदन’ हर शाम कहता है कि अब ‘हड़ताल’ हो जाए ।।

“_”
मेरी बात सुन पगली
अकेले हम ही शामिल नही है इस जुर्म में….
जब नजरे मिली थी तो मुस्कराई तू भी थी…!!!!!

“_”
न जाने कैसी नज़र लगी है ज़माने की,
अब वजह नही मिलती मुस्कुराने की…

If you like this shayari, Please like and share on Facebook

 
   

Please Like MailShayari on Facebook

Mail Shayari on Facebook

Leave a Reply