Maa Par Dil Chune Wali Shayari

कमा के इतनी दोलत भी मैं अपनी ‪‎माँ‬ को दे ना पाया,
कि जितने सिक्कों से #माँ मेरी नज़र उतारा करती थी..!!

“-”

जिस बेटे के पहली बार बोलने पर खुशी से चिल्ला उठी थी जो ‪#‎माँ‬,
आज उसी बेटे की एक आवाज पर खामोश हो जाती है….#माँ

“-”

माँ एक ऐसा शब्द हैं, जिसे सिर्फ़ बोलने से ही अपने हृदय में प्यार और ख़ुशी की लहर आ जाती हैं…और ऐसे पावन दिवस पर हर माँ को मेरा प्रणाम..

If you like this shayari, Please like and share on Facebook

 
   

Please Like MailShayari on Facebook

Mail Shayari on Facebook

Leave a Reply