Love Shayari in Hindi Font

अभी सूरज नहीं डूबा ज़रा सी शाम होने दो,
मैं खुद लौट जाउंगा मुझे नाकाम होने दो..
मुझे बदनाम करने का बहाना ढूँढ़ते हो क्यों,
मैं खुद हो जाऊंगा बदनाम पहले नाम होने दो! …

************************
एक आरज़ू सी दिल में अक्सर छुपाये फिरता हूँ,
प्यार करता हूँ तुझसे पर कहने से डरता हूँ..
कही नाराज़ न हो जाओ मेरी गुस्ताखी से तुम,
इसलिए खामोश रहके भी तेरी धडकनों को सुना करता हूँ ..

***************************
मैं कुछ लम्हे और उसके साथ चाहती हूँ,
आँखों में थम जाऐ वो बरसात चाहती हूँ…
सुना हैं मुझे बहुत चाहता है वो मगर,
मैं उसके लबो से एक बार इज़हार चाहती..!!

If you like this shayari, Please like and share on Facebook

 
   

Please Like MailShayari on Facebook

Mail Shayari on Facebook

Leave a Reply