Mere Sehar me Insan Bahut Hain

*खुशियाँ कम और अरमान बहुत हैं ।
*जिसे भी देखो परेशान बहुत है ।।

*करीब से देखा तो निकला रेत का घर ।
*मगर दूर से इसकी शान बहुत है ।।

*कहते हैं सच का कोई मुकाबला नहीं ।
*मगर आज झूठ की पहचान बहुत है ।।

*मुश्किल से मिलता है शहर में आदमी ।
*यूं तो कहने को इन्सान बहुत हैं ।।

If you like this shayari, Please like and share on Facebook

 
   

Please Like MailShayari on Facebook

Mail Shayari on Facebook

Leave a Reply