Jisko Chaha Use Paa na Sake

जाने लगे तेरे शहर से
तो तुझे अलविदा भी न कह सके

तेरी सादगी इतनी हसीन थी
कि तुझे बेवफा भी न कह सके

खुशी मिली लेकिन हस न सके
गम मिला लेकिन रो न सके

इक तझे ही दिल दिया
किसी को बता न सके

जिदगी का यही दसतूर है
जिसे चाहा उसे पा न सकेगे
और जिसको पाएगे उसे कभी चाह न सकेगे.
From :: Sapnas Sagar

If you like this shayari, Please like and share on Facebook

 
   

Please Like MailShayari on Facebook

Mail Shayari on Facebook

Leave a Reply