Ek Maa (Shayari in Hindi Font)

Shayri : माँ
एक माँ ऐसी भी होती है
घुंगरू की जंजीर में बंधी होती है
ज़माने की जेल में उसे तबायफ
रहने के सजा मिली होती है !
दिल उसका खून के आंसु रोता है
आँखे सहरा जैसे सूख गयी होती है
अपने बच्चे को स्कूल भेजकर नए नए
सपने संजो रही होती है ! एक माँ….

समाज के ठेकेदारों ने ऐसा कर दिया
एक बेबुस को वैश्या कर दिया
अपने बच्चे को ख़ुशीया देने वास्ते
हर जुल्मो – सितम सह रही होती है!
तू कल जब बड़ा हो जायेगा
अपनी मंजिल अपना मुकाम पायेगा
तू कही उस माँ को छोड़ न दे
इस डर से मेरी कलम आगे लिख पति है !
एक माँ…

If you like this shayari, Please like and share on Facebook

 
   

Please Like MailShayari on Facebook

Mail Shayari on Facebook

Leave a Reply