Ungliyan Sab Par na Uthaya Karo

उँगलियाँ यूँ न सब पर…

उँगलियाँ यूँ न सब पर उठाया करो;
खर्च करने से पहले कमाया करो;

ज़िन्दगी क्या है खुद ही समझ जाओगे;
बारिशों में पतंगें उड़ाया करो;

दोस्तों से मुलाक़ात के नाम पर;
नीम की पत्तियों को चबाया करो;

शाम के बाद जब तुम सहर देख लो;
कुछ फ़क़ीरों को खाना खिलाया करो;

अपने सीने में दो गज़ ज़मीं बाँधकर;
आसमानों का ज़र्फ़ आज़माया करो;

चाँद सूरज कहाँ, अपनी मंज़िल कहाँ;
ऐसे वैसों को मुँह मत लगाया करो।

If you like this shayari, Please like and share on Facebook

 
   

Please Like MailShayari on Facebook

Mail Shayari on Facebook

One Response to “Ungliyan Sab Par na Uthaya Karo”

  1. Manvi Says:

    Nyc

Leave a Reply