Tum Sitam Bemishal Karte Ho

दुःख देकर सवाल…

दुःख देकर सवाल करते हो;
तुम भी जानम! कमाल करते हो;

देख कर पूछ लिया हाल मेरा;
चलो कुछ तो ख्याल करते हो;

शहर-ए दिल में ये उदासियाँ कैसी;
ये भी मुझसे सवाल करते हो;

मरना चाहें तो मर नहीं सकते;
तुम भी जीना मुहाल करते हो;

अब किस-किस की मिसाल दूँ तुम को;
हर सितम बे-मिसाल करते हो।

If you like this shayari, Please like and share on Facebook

 
   

Please Like MailShayari on Facebook

Mail Shayari on Facebook

One Response to “Tum Sitam Bemishal Karte Ho”

  1. Kabir Shayer Says:

    दुःख देकर सवाल करते हो;
    तुम भी जानम! कमाल करते हो;

    देख कर पूछ लिया हाल मेरा;
    चलो कुछ तो ख्याल करते हो;

    inhe padhkar hi andaza ho gaya ki poori ghazal hi bemisaal hai….

    behad khoob
    keep it up

Leave a Reply