Bhari Mehfil me Kaise Ruswayi Hui

कह रही है हश्र में वो आँख शर्माई हुई,
हाय कैसे इस भरी महफ़िल में रुसवाई हुई;

आईने में हर अदा को देख कर कहते हैं वो,
आज देखा चाहिये किस किस की है आई हुई;

कह तो ऐ गुलचीं असीरान-ए-क़फ़स के वास्ते,
तोड़ लूँ दो चार कलियाँ मैं भी मुर्झाई हुई;

मैं तो राज़-ए-दिल छुपाऊँ पर छिपा रहने भी दे,
जान की दुश्मन ये ज़ालिम आँख ललचाई हुई;

ग़म्ज़ा-ओ-नाज़-ओ-अदा सब में हया का है लगाव,
हाए रे बचपन की शोख़ी भी है शर्माई हुई;

गर्द उड़ी आशिक़ की तुर्बत से तो झुँझला के कहा,
वाह सर चढ़ने लगी पाँओं की ठुकराई हुई।

If you like this shayari, Please like and share on Facebook

 
   

Please Like MailShayari on Facebook

Mail Shayari on Facebook

Leave a Reply