Aisa Kabhi nhi Socha Tha Sad Nazam

अब किस से कहें और कौन सुने जो हाल तुम्हारे बाद हुआ;
इस दिल की झील सी आँखों में इक ख़्वाब बहुत बर्बाद हुआ;

ये हिज्र-हवा भी दुश्मन है इस नाम के सारे रंगों की;
वो नाम जो मेरे होंटों पे ख़ुशबू की तरह आबाद हुआ;

उस शहर में कितने चेहरे थे कुछ याद नहीं सब भूल गए;
इक शख़्स किताबों जैसा था वो शख़्स ज़बानी याद हुआ;

वो अपने गाँव की गलियाँ थी दिल जिन में नाचता गाता था;
अब इस से फ़र्क नहीं पड़ता नाशाद हुआ या शाद हुआ;

बेनाम सताइश रहती थी इन गहरी साँवली आँखों में;
ऐसा तो कभी सोचा भी न था अब जितना बेदाद हुआ।

If you like this shayari, Please like and share on Facebook

 
   

Please Like MailShayari on Facebook

Mail Shayari on Facebook

Leave a Reply