Ab Sirf Apna Ghar Acha Lagta Hai

नयी-नयी आँखें हों तो…

नयी-नयी आँखें हों तो हर मंज़र अच्छा लगता है;
कुछ दिन शहर में घूमे लेकिन, अब घर अच्छा लगता है;

मिलने-जुलने वालों में तो सारे अपने जैसे हैं;
जिससे अब तक मिले नहीं वो अक्सर अच्छा लगता है;

मेरे आँगन में आये या तेरे सर पर चोट लगे;
सन्नाटों में बोलने वाला पत्थर अच्छा लगता है;

चाहत हो या पूजा सबके अपने-अपने साँचे हैं;
जो मूरत में ढल जाये वो पैकर अच्छा लगता है;

हमने भी सोकर देखा है नये-पुराने शहरों में;
जैसा भी है अपने घर का बिस्तर अच्छा लगता है।

If you like this shayari, Please like and share on Facebook

 
   

Please Like MailShayari on Facebook

Mail Shayari on Facebook

Leave a Reply