Bewafai Shayari in Hindi Fonts

तेरी बेवफाई का ही सिला है
की आज इक मुकाम सा हूँ
कल तक जिन राहों के लिए अनजान था ,
आज उन राहों की पहचान सा हूँ ,
फेर लिया करते थे यु ही नजरे मुझसे,
जैसे शख्स कोई बेजान सा हूँ,
आज हर जुबा पे छाया रहता है बस नाम मेरा
जैसे बरकत की कलाम सा हूं,
तेरी बेवफाई का ही सिला है
की आज इक मुकाम सा हूँ,
मुझे कतल करने को चले थे
कभी यु लोग सारे,
बेबस से बैठे है आज.
जो आज में खुद आवाम सा हूँ,
तेरी बेवफाई का ही सिला है
की आज इक मुकाम सा हूँ ,
कदर न थी तुझे मेरी ऐ जानशीन
आज देख हर जवा धड़कन में
दिल्लगी का जैसे पैगाम सा हूँ .
तेरी बेवफाई का ही सिला है
की आज इक मुकाम सा हूँ ,
From:- Hritesh Jaiswal

If you like this shayari, Please like and share on Facebook

 
   

Please Like MailShayari on Facebook

Mail Shayari on Facebook

3 Responses to “Bewafai Shayari in Hindi Fonts”

  1. buni sharma Says:

    ooooosum hai……..realy touching……]

  2. Keshu Says:

    Dosti guna hai.to hone na dena
    dost khuda hai. To khone na dena Agr karte ho kisi se dost to ouse dost ko kabhi roone na dena

    keshu singh

  3. Keshu Says:

    Yaado ka bas vo yaad hai.dil me bas vo khawb he koi rola deti he humko dost dekar hum yaad karte he pyare bhari zindagi me

Leave a Reply